Monday, February 26, 2024

HAJJ COMMITTEE OF INDIA AT JMI, NEW DELHI


Ms. Kausar Jahan, Chairperson, Delhi State Haj Committee hosts the 110th episode of 'Mann Ki Baat' at Jamia Millia Islamia
Prime Minister Shri Narendra Modi presented the 110th episode of 'Mann Ki Baat' today. Addressing the audience, he talked about receiving several inputs from the people of India informed by very positive ideas in the context of 'Mann Ki Baat'. PM Modi spoke of the upcoming Women's Day on the 8th of March which, he opined, would be an occasion for us to pay tribute to women’s power for their transformative energy. He quoted the renowned poet Bharthiyaar who had spoken about the goal of global prosperity being realized only through granting equal opportunities to women. He lauded the contributions made by women from different walks of life who continue to attain new heights.

The Prime Minister particularly emphasized the contribution of women in villages and singled out the sterling performances of Drone Didis who have successfully demonstrated the intervention of women in the farming sector by enabling farmers to attend to their farming needs with the help of advanced technology in the form of drones.

The Prime Minister also spoke about the daily contributions of commoners in India who are continuously strengthening Indian tradition and culture. He underlined how 'Mann Ki Baat' reflects the collective strength of the country.

The 110th episode of 'Mann Ki Baat' was hosted by the Delhi State Haj Committee at FTK-Centre for Information Technology of Jamia Millia Islamia which was attended by the Offg. Vice Chancellor Prof. Eqbal Hussain and other distinguished dignitaries. JMI facilitated the holding of the 'Mann Ki Baat' session as requested by Ms. Kausar Jahan, Chairperson, Delhi State Haj Committee (DSHC). The DSHC had invited Shri Tariq Mansoor, Hon'ble Vice President of Bharatiya Janata Party (BJP) as Chief Guest.

A large number of faculty members, non-teaching staff and students attended the event and listened to the Prime Minister's words with rapt attention.








Annual Art Exhibition inaugurated at A

 The Moinuddin Ahmad Art Gallery witnessed inauguration of the Annual Art Exhibition of the Department of Fine Arts students which unfolded its treasures. Graced by the presence of Vice Chancellor Prof. Mohammad Gulrez and Women’s College Principal Prof. Naima Khatoon, the event marked a celebration of creativity and vision.

A catalog showcasing the artworks of the exhibitors was also released during the event.

With the Registrar Mr. Mohammad Imran, IPS, and the Dean of Faculty of Arts Prof. Arif Nazir as guests of honor, the exhibition unveiled around two hundred artworks spanning various genres. From traditional forms like still life, landscape, and portraits to contemporary expressions integrating digital technology and photography, the display mirrored the diverse sensibilities of the budding artists.

During his speech, the Chief Guest of the event, Vice-Chancellor Prof. Gulrez, praised the depth of talent displayed, underlining the significance of acknowledging and fostering it outside the realm of academia. Prof. Naima Khatoon, who inaugurated the exhibition, reiterated this sentiment, applauding the students' enthusiasm and the outstanding quality of their artworks.

Acknowledging the pivotal role of the Art Gallery Coordinator, Prof. Badar Jahan, in providing a platform for student recognition, Dean Prof. Arif Nazir lauded the efforts to promote artistic endeavors within the institution.

The Registrar, visibly impressed by the volume and caliber of the artworks, expressed optimism about the students' future prospects in the field.

Prof. Badar Jahan highlighted the significance of presenting art for public appreciation, underscoring the gallery's role as a conduit for student expression and recognition.

Dr. Talat Shakeel, Chairperson of the Department of Fine Arts, reflected on the dedication and passion evident in each artwork, affirming the exhibition as a testament to students' creative journey throughout the year.

The exhibition, a convergence of artistic vision and skill, invites visitors and art enthusiasts to explore its offerings until March 12th. Art aficionados have the opportunity to acquire pieces directly from the venue.


Friday, February 23, 2024

SIR SYED ACADEMY OF AMU

 AMU APPOINTED PROF SHAFEY QIDWAI AS DIRECTOR OF SIR SYED ACADEMY

çksQslj 'kkQs fdnobZ lj lS;n vdkneh ds funs’kd cus

    çfl) fo}ku] lkfgR; vdkneh iqjLdkj fotsrk vkSj vyhx<+ eqfLye fo'ofo|ky; ds tulapkj foHkkx esa ofjLB f’k{kd çksQslj 'kkQs fdnobZ dks rhu lky dh vof/k ds fy, ;k vxys vkns'k rd] lj lS;n vdkneh dk funs'kd fu;qä fd;k x;k gSA

    lj lS;n ij muds }kjk fd;s x;s egRoiw.kZ 'kks/k dk;ksaZ] ftlesa 2020 esa :Vyst }kjk çdkf'kr mudh csLVlsyj iqLrd] ^lj lS;n vgen [kku% jhtu] fjfytu ,aM us'ku^ Hkh 'kkfey gS] us mUgsa ,d çfrf"Br lj lS;n fo}ku dk ntkZ iznku fd;k gSA mudh iqLrd Hkkjr ds lkewfgd thou esa lj lS;n ds ;ksxnku ij Li"V :i ls çdk'k Mkyrh gS] tks dsoy fo'ofo|ky; ds laLFkkid ls dgha vf/kd FksA

,d çfl) lapkj fo'ks"kK] f}Hkk"kh vkykspd] vuqoknd vkSj LraHkdkj] çksQslj fdnobZ dks mnwZ esa lj lS;n ij muds egRoiw.kZ dk;Z ^lokuk&,&lj lS;n^ ds fy, ns'k dk loksZPp lkfgfR;d iqjLdkj] lkfgR; vdkneh iqjLdkj feyk gSA o"kZ 2019 esa lkfgR; ds fy, e/; çns'k ljdkj dk çfrf"Br iqjLdkj] 2017 esa bdcky lEeku vkSj 2018 esa lkfgfR;d miyfC/k ds fy, mÙkj çns'k mnwZ vdkneh dk loksZPp iqjLdkj vehj [kqljks iqjLdkj çnku fd;k x;kA

mudh ,d vU; iqLrd] ^mnwZ lkfgR; vkSj i=dkfjrk% fØfVdy ilZisfDVo^ ¼dSfEczt ;wfuoflZVh çsl] Hkkjr] 2014½ esa mnwZ i=dkfjrk vkSj lkfgR; fons'kh 'kklu dk fojks/k vkSj ns'kokfl;ksa ls ijk/khurk ds f[kykQ vFkd la?k"kZ djus ds vkxzg dks n’kkZrh gSA

mUgksaus vaxzsth vkSj mnwZ esa 12 iqLrdsa çdkf'kr fy[kha gSa] ftuesa ^lokuk&,&lj lS;n^] ^vyhx<+ baLVhVîwV xtV% ,d rfTt;krh eqrkyk^] ^fQD'ku eqrkysvr^] ^fejkth^] ^[kcj fuxkjh^] ekbdy e/kqlwnu nÙk^ o ^vkj-ds- ukjk;.k^] vkfn “kkfey gSaA mUgksaus mnwZ esa tulapkj ds vDlj mi;ksx fd, tkus okys 'kCnksa dk ladyu vkSj vuqokn Hkh fd;k vkSj bZVhoh mnwZ] gSnjkckn ds fy, ,d LVkby cqd Hkh rS;kj dhA

mudh iqLrd leh{kk,a vkSj dye fu;fer :i ls n fganqLrku VkbEl] n bafM;u ,Dlçsl] n fganw] n vkmVyqd] n ÝaVykbu] n cqd fjO;w vkSj n fl;klr esa izdkf’kr gksrs jgrs gSaA n fganw ds ÝkbMs fjO;w ds fy, muds ikf{kd dye ^xksbax usfVo^ dks Hkkjr vkSj fons'kksa esa fo}kuksa ls O;kid ljkguk feyh gSA

mUgksaus nks ckj lkfgR; vdkneh dh lkekU; ifj"kn ds lnL; ds :i esa lsok dh vkSj rhu ckj mnwZ lykgdkj cksMZ] lkfgR; vdkneh ds lnL; jgsA og ljLorh lEeku vkSj KkuihB iqjLdkj ds fy, Hkk"kk lfefr ¼mnwZ½ ds la;kstd Hkh FksA og us'kuy dkmafly Qj çeks'ku vQ mnwZ ds tujy dkmafly lnL; Hkh FksA og çfrf"Br if=dk] jkstku&,&js[rk vkSj vU; ds laikndh; cksMZ ds lnL; gSa] vkSj mnwZ vkSj vaxzsth dh lkfgfR;d if=dkvksa esa fu;fer :i ls ;ksxnku nsrs gSaA

    og 1985 ls lapkj fl)kar] lkaL—frd v/;;u] çlkj.k i=dkfjrk] fQYe v/;;u i<+k jgs gSaA mUgsa 2005 esa çksQslj fu;qä gq, fd;k x;k vkSj pkj ckj tu lapkj foHkkx ds v/;{k Hkh jg pqds gSaaaA

  a   



Tuesday, February 13, 2024

foundation stone of Institute of Pharmacy’ at AMU

Shehzada Husain Burhanuddin addressing the foundation stone ceremony at Kennedy Hall


Shehzada Husain Burhanuddin laying the foundation stone  (3)



VC Prof Mohd Gulrez presenting the foundation stone ceremony picture to Shehzada Husain Burhanuddin 

Shahzada Husain Burhanuddin lays the foundation stone of ‘His Holiness Syedna Mufaddal Saifuddin Institute of Pharmacy’ at AMU

ALIGARH February 12: Shahzada Husain Burhanuddin Sahab, the third and youngest son of His Holiness Syedna Mufaddal Saifuddin, the 53rd Da'i al-Mutlaq and head of the Dawoodi Bohra community, and the former Chancellor of the Aligarh Muslim University (AMU), today urged the students and faculty members of AMU to do Tafakkur (think) and ponder over the creation of the universe while pursuing their academic work.

He emphasized that true service is using the light of knowledge to serve our country and all of humanity.

Shahzada Burhanuddin was addressing the faculty members and students at the foundation laying ceremony of “His Holiness Syedna Mufaddal Saifuddin Institute of Pharmacy”, which will be constructed from a grant donated by Syedna Mufaddal Saifuddin.

He said that human beings have not been created without a purpose, but man has been made the best of all creatures to carry out larger purposes. We should always strive to be the best at whatever we take up.

“The objective behind all researches and studies should be to benefit humanity... It is imperative for a researcher to use wisdom, knowledge and reason for finding out remedies for diseases, while having faith in the Creartor’s blessings” he added.

He pointed out that no diseases have been created without its remedy at the same time, but it is for the researchers to find out the remedy and make it available for the treatment.

Emphasizing the importance of character building and conveying the message of Syedna Mufaddal Saifuddin, Shahzada Husain called upon the university fraternity to adopt an affirmative gesture towards all and always show kindness even if they face hostility.

He said Islam has called upon us to remain true and loyal to our country and serve it with a high degree of patriotism.

He stated that the construction of the state-of-the-art building of ‘His Holiness Syedna Mufaddal Saifuddin Institute of Pharmacy’ at AMU is yet another milestone in the age old relationship between the Syedna family and the Aligarh Muslim University, and this institute will serve humanity beyond all constraints.

In his presidential remarks, the Vice Chancellor, Prof Mohammad Gulrez said it is a historic day for AMU that the spiritual head of the Dawoodi Bohra community, Da'i al-Mutlaq His Holiness Syedna Mufaddal Saifuddin has very kindly donated a building for the Institute of Pharmacy. He said this gesture has further strengthened the relationship between the Syedna family and the AMU.

He said that introduction of courses like B.Phrama and D.Pharma would be another big addition in the list of courses offered by AMU, and the students would be greatly benefited from the Institute of Pharmacy.

Prof Gulrez extended heart-felt gratitude to Syedna for always patronizing AMU and for granting aid during Covid-19 to provide better medical facilities to the Covid patients.

Earlier, welcoming the distinguished guest, AMU Registrar, Mr Mohammad Imran (IPS) said that the university community feels indebted to Syedna for taking up the construction project of the Institute of Pharmacy which would have the stamp of world class construction that the Dawoodi Bohra community is known for.

He highlighted the legacy of the last three Da'i al-Mutlaq, Syedna Taher Saifuddin, Syedna Burhanuddin and Syedna Mufaddal Saifuddin, who adorned the office of the Chancellor of AMU and who showed a higher degree of benevolence and patronage towards the university, throughout the decades starting from 1950s.

Dr Raza Abbas elaborated on the family history of Da'i al-Mutlaq Syedna Mufaddal Saifuddin with special mention of their role in the development of the Aligarh Muslim University.

Prof Nadeem Khalil, University Engineer made a short presentation on the details of the Institute of Pharmacy project.

He said that the proposed Institute is to be built over 3 acres with a total covered area of around 58,300 sq. ft. It would be a two-storeyed building with elements of modern, Fatemi and AMU architecture having modern learning facilities and conducive spaces for research. Scope for future expansion has been inbuilt into the plan.

This institute will complete a long-felt need of meeting the demand for a sought-after professional course in the healthcare sector and would complete the range of health related education that AMU offers, he added.

It is to be noted that AMU already has leading colleges of modern medicine, Unani medicine, dentistry, nursing and paramedical.

While extending a vote of thanks, Prof Mohd Altamush Siddiqui, Dean, Faculty of Engineering and Technology, expressed a deep sense of gratitude towards Syedna Mufaddal Saifudding for his generous donation for the Institute of Pharmacy.

Prof. F.S. Sherani, Coordinator CEC conducted the entire programme. The event organized at the Kennedy Auditorium was attended by over one thousand gests, including the faculty members and students.

A Memorandum of Association was also signed by Syedna Mufaddal Saifuddin Foundation and AMU regarding the Institute.

Earlier in the morning, Shahzada Husain Burhanuddin laid the foundation stone of the Institute of Pharmacy at its site situated on Qila Road, in the presence of Mr Qusai Jamaluddin Bhaisahab, Vice Chancellor Prof Mohammad Gulrez, Registrar, Mr Mohammad Imran IPS, Dean, Faculty of Engineering and Technology, Prof Mohd Altamush Siddiqui, Principal, Zakir Husain College of Engineering and Technology, Prof M.M. Sufiyan Beg, Proctor Prof M. Wasim Ali, University Engineer Prof Nadeem Khalil and other officials.

He also visited the SS Hall and Strachey Hall buildings and paid rich tributes to the founder of the university Sir Syed Ahmad Khan while offering prayers at his mausoleum in the premises of the university Jama Masjid. He also planted a sapling in the lawns of S.S. Hall (South).

Earlier, he visited the Syedna Taher Saifauddin School and took a round through the historic buildings and school library.

 

चंडीगढ़ बना विजेता, उप विजेता एएमयू रहा

एएमयू ओल्ड बॉयज एसोसिएशन एवं यूनिवर्सिटी गेम्स कमेटी के संयुक्त तत्वाधान में 
सर सैयद ऑल इंडिया रोलर हॉकी चैंपियनशिप

 

*विजेताओं को 2 लाख रुपये की नकद धनराशि प्रदान की गई*

एएमयू ओल्ड बॉयज एसोसिएशन एवं यूनिवर्सिटी गेम्स कमेटी के संयुक्त तत्वाधान में सर सैयद ऑल इंडिया रोलर हॉकी चैंपियनशिप का फाइनल मुकाबला चंडीगढ़ एवं एएमयू के बीच खेला गया । हाफ टाइम से पहले चंडीगढ़ टीम के दमन प्रीत ने एएमयू पर पहला गोल किया । जिससे एएमयू की टीम दबाव में आ गयी , स्कैटिंग प्रेमी दर्शकों और एएमयू के छात्रों के काफी प्रोत्साहन से एएमयू टीम के खिलाडियों ने बेहतरीन खेल का प्रदर्शन किया । इसी बीच मैच के अंतिम समय मे चंडीगढ़ के  गुरु शरण ने एएमयू पर दूसरा गोल दाग कर  2-0 के स्कोर से  चंडीगढ़ ने शानदार जीत दर्ज की ।  विजेता टीम चंडीगढ़ को 1 लाख, उप विजेता अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी को 50 हज़ार , तृतीय स्थान संगरूर पंजाब की टीम को 25 हज़ार , मैन ऑफ द टूर्नामेंट चंडीगढ़ के जुझार सिंह को 15 हज़ार तथा बेस्ट गोलकीपर ऑफ टूर्नामेंट चंडीगढ़ के नमन को 10 हज़ार की नकद धनराशि आयोजन सचिव डाक्टर आज़म मीर द्वारा अपने व्यक्तिगत प्रयास से इनाम स्वरूप प्रदान किया गया । 
            पुरस्कार वितरण कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में अलीगढ़ रेंज के पुलिस महानिरीक्षक सलभ माथुर , रजिस्ट्रार एएमयू मोहम्मद इमरान ने संयुक्त रूप से सभी विजेता एवं उप विजेता टीम को पुरस्कार प्रदान किये । मुख्य अतिथि आईजी शलभ माथुर ने खिलाड़ियों एवं छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि मैत्रीपूर्ण संबंधों के लिए खेल एक महत्वपूर्ण साधन है । अब युवा, शिक्षा और  खेल के माध्यम से भी अपना भविष्य बना सकते हैं । यहां उपस्थित अतिथियों में इसी सदस्य प्रोफेसर मोइनुद्दीन, यूपी रोलर स्पोर्ट्स के सचिव श्री जी एस राठौर, राष्ट्रीय रोलर फेडरेशन के उपाध्यक्ष सरदार बलविंदर सिंह,  कुँवर  रिजवान उर रहमान सहित मुख्य अतिथि आईजी सलभ माथुर एवं रजिस्ट्रार मोहम्मद इमरान आईपीएस, सचिव यूनिवर्सिटी गेम्स कमेटी प्रोफेसर सय्यद अमजद अली रिजवी को आयोजन सचिव एवं ओल्ड ब्याज एसोसिएशन के महासचिव डॉक्टर आजम मीर ने स्मृति चिन्ह भेंट कर स्वागत किया । निर्णायक  में भूपेंद्र सिंह ,हरप्रीत सिंह, कल्पेश गांधी रहे। सभी अतिथियों का धन्यवाद जिम्नेजियम के अध्यक्ष प्रोफेसर मजहर अब्बास द्वारा किया गया । कार्यक्रम का संचालन मज़हर उल कमर द्वारा किया गया । इस अवसर पर शाहबाज खान शब्बू , मोहम्मद मुख्तार ज़ैदी , तौफीक मलिक ,सैयद माजिन हुसैन ,डॉक्टर मसूद अहमद ,काशिफ तारिक , सैयद मोहम्मद हैदर, रईस अहमद ,इरफान रहम अली, रशीद मुस्तफा, डॉक्टर फैसल शेरवानी, सुहैल फारुकी ,अली अकबर, नदीम काजमी, हुकुम सिंह, हैदर आकिल आदि लोग उपस्थित थे ।

Report & Ancoring by  मज़हर उल कमर 

Sunday, February 11, 2024

CULTURAL PROGRAME BY DR. ANUSHU SAXENA

 


शिवसमृद्धि  संस्था द्वारा सांस्कृतिक एवं नृत्य कार्यक्रम कृष्णाजलि मैं आयोजित हुआ।

संस्था की अध्यक्ष डॉ अंशु सक्सेना ने बताया की आज कार्यक्रम मैं सर्वप्रथम विभाग प्रचारक गोविन्द जी, महानगर प्रचारक विक्रांत जी, पूर्व महापौर शकुंतला भारती, अशोक सक्सेना, राकेश सक्सेना,मानव फुलर डॉ वरुण सक्सेना, राज सक्सेना, गीतांजलि शर्मा ने दीप प्रज्ज्वलन कर शुभआरम्भ किया।

कार्यक्रम मैं विशिष्ट आतिथि के रूप मैं एडिशनल डायरेक्ट साधना राठौर, मुख्य चिकत्सा अधिकारी डॉ नीरज त्यागी, मुख्य चिकत्सा अधीक्षक डॉ नीता कुलश्रेष्ठ, डी एम ओ डॉ राहुल कुलश्रेष्ठ,डॉ राजीव अग्रवाल, कृष्ण गुप्ता,मौजूद रही।

इस कार्यक्रम मैं शिव समृद्धि संस्था के बच्चो के साथ मूक वाधिर बच्चो ने भी अपना नृत्य प्रदर्शन किया।

कार्यक्रम मैं सर्वप्रथम समृद्धि सक्सेना ने कृष्ण वंदना प्रस्तुत की।

शिवसमृद्धि संस्था के बच्चो आरना, मनासी, हर्षिता, प्रज्ञा राजोरिया, मुस्कान, दीक्षा द्वारा विभिन्न कार्यक्रम के साथ होली की प्रस्तुति दी।

डॉ अंशु सक्सेना ने बताया कि ये विद्यार्थी पूरी तरह से न तो बोल सकते हैं और न ही सुन सकते हैं। ऐसे में इन्हें केवल इशारों से समझाकर ही प्रस्तुति को तैयार करवाया गया है। इसके लिए बोल और सुन न सकने के बावजूद बच्चों ने पिछले 15 दिन से मेहनत करके इस नृत्य को तैयार किया है। नृत्य में ये बच्चे आम बच्चों की तरह डांस के स्टेप पर अपनी भाव भंगिमाओं को प्रदर्शित करते हैं और बिना सुने गीत के बोल के अनुसार सही समय पर एक्शन करके सबको हैरत में डाल रहे थे।

डॉ काजल सिंह द्वारा बच्चो को पुरुस्कार देकर सम्मानित किया।

कार्यक्रम को सफल बनाने मैं राजीव अग्रवाल,संजय सक्सेना, कपिल वार्ष्णेय, आनंद सक्सेना, रुषि, डॉ सोम, प्रखर सक्सेना, जीतेन्द्र, रंजना गुप्ता, बबली शर्मा, रोमी तिवारी मौजूद रही 



Thursday, February 8, 2024

1991 के उपासना स्थल कानून


 Professor Emiratus Irfan habib, Aligarh Muslim University, Aligarh

प्रख्यात इतिहासकार प्रो. इरफान हबीब का कहना है कि वाराणसी-मथुरा में मंदिर थे, इन्हें तोड़ा गया यह बिल्कुल सही है। इसका जिक्र इतिहास की कई किताबों में किया गया है। यह साबित करने के लिए किसी सर्वे, कोर्ट-कचहरी की कोई जरूरत नहीं है। लेकिन 1991 के उपासना स्थल कानून के तहत इनका मौजूदा स्वरूप संरक्षित है। इसके मुताबिक 1947 की स्थिति बरकरार रखनी होगी। अगर कोई तब्दीली करनी है तो कानून बदलना होगा। तीन सौ, चार सौ साल बाद इन्हें दुरुस्त करने का औचित्य क्या है। इरफान हबीब उदाहरण देते हैं कि भारत में हजारों बौद्ध मठों को तोड़ कर मंदिर बनाए गए, क्या आप उन्हें भी तोड़ेंगे। गया का महाबोधि मंदिर इसी का उदाहरण है। वहां शैव मत के लोगों ने कब्जा कर लिया। हालांकि अब वहां हिंदू और बौद्ध दोनों ही पूजा करते हैं।प्रख्यात इतिहासकार प्रो. इरफान हबीब का कहना है कि वाराणसी-मथुरा में मंदिर थे, इन्हें तोड़ा गया यह बिल्कुल सही है। इसका जिक्र इतिहास की कई किताबों में किया गया है। यह साबित करने के लिए किसी सर्वे, कोर्ट-कचहरी की कोई जरूरत नहीं है। लेकिन 1991 के उपासना स्थल कानून के तहत इनका मौजूदा स्वरूप संरक्षित है। इसके मुताबिक 1947 की स्थिति बरकरार रखनी होगी। अगर कोई तब्दीली करनी है तो कानून बदलना होगा। तीन सौ, चार सौ साल बाद इन्हें दुरुस्त करने का औचित्य क्या है। इरफान हबीब उदाहरण देते हैं कि भारत में हजारों बौद्ध मठों को तोड़ कर मंदिर बनाए गए, क्या आप उन्हें भी तोड़ेंगे। गया का महाबोधि मंदिर इसी का उदाहरण है। वहां शैव मत के लोगों ने कब्जा कर लिया। हालांकि अब वहां हिंदू और बौद्ध दोनों ही पूजा करते हैं।

हिंदुस्तान शब्द अरबों की देन ः इरफान हबीब कहते हैं कि अब प्रचारित किया जा रहा है कि भारत लोकतंत्र की जननी है। यह ऐतिहासिक रूप से गलत है। जिस वैशाली का उदाहरण दिया जाता है, वह महाजनपद था। एक देश के रूप में भारत की निश्चित सीमा नहीं थी। हर छोटा-मोटा राजा कुछ भूभाग जीतकर खुद को भारत का सम्राट बताने लगता था। हिंदुस्तान शब्द तो अरबों की देन है।


इरफान हबीब कहते हैं कि लगभग सभी मुगल बादशाहों ने मंदिरों को संरक्षण दिया। अकबर ने मुहम्मद बिन कासिम (814) ईस्वी से गैर मुस्लिमों से लिया जाने वाला जजिया कर खत्म कर दिया था। अन्य किसी मुगल बादशाह, यहां तक कि औरंगजेब के भी जजिया कर लेने का सबूत नहीं है। ब्राह्मणों से जजिया नहीं वसूला जाता था। शाहजहां तो एक कदम आगे बढ़कर वृंदावन के एक मंदिर के बारे में कहता है कि यहां खुदा की पूजा होती है, इसे मदद दी जानी चाहिए। अकबर और जहांगीर ने मथुरा में मंदिरों को ग्रांट मुहैया कराईं। औरंगजेब के जमाने में भी उन्हें ये सब मिला। इसका जिक्र उन्होंने अपनी किताब-ब्रजभूमि इन मुगल टाइम्स में किया है।

नेहरू पर टिप्पणियों से आहत
राजनीतिक रूप से वामपंथी विचारधारा से जुड़े रहे प्रो. इरफान हबीब देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू पर टिप्पणियों से आहत हैं। कहते हैं कि जब नेहरू को सत्ता मिली तो देश के क्या हालात थे। उन्होंने कैसे-कैसे देश का संचालन शुरू किया और जरूरतों को पूरा करना शुरू किया। मगर अब लोग उन्हें भला बुरा कहते हैं, जो गलत है।

Wednesday, February 7, 2024

Ex governer Satey Pal Malik

 

 Aligarh Loksabha seat par SATEY PAL MALIK ko larhaya jaye- Dr. Masood
Samaj Sewi aur AMU old boys Association ke CEC member Dr. Masood Ahmad ne mashwara Diya hai ki Aligarh Lok Sabha seat Congress ko mile ya SP ko, yahan koi Aisa candidate utarna chahiye jiska rishta Aligarh se purana raha ho. Jammu- Kashmeer ke sabiq Governer, aur LokSabha se bhi Jeet chuke Hardil Azeez Leader Satey Pal Malik ne Aligarh wasion ko Delhi, J&K, Meghaley Jahan bhi rahe hon izzat di hai aur INDIA ke kisi bhi sooba ho ya zila phone kar Kar kam  karaya hai. Guest house mein thehraya hai aur Qayam, Tuaam ka ehtimam kar pazeerai. Khidmat ki hai.
Allah ne unhen Eimandari, Secular, Democratic, Ghareeb, Mehroom tabqa Hindoo ho ya Musalman har mazhab ke manne walon ki khidmat ki hai.
 Kisanon ka Delhi mein Dharna har mauqe par Prime Minister Shri Narendar Modi ko salah mashwara Diya tha magar PM ne unhen chup rehne ko kaha.
Kapil Sibbal ko interview dete hue kaha ki J&K mein yeh sab partian media mein to ek to ho rahi theen lekin mil kar sarkar banane ka koi Letter nahin Aya. Modi ji ne sarkar dissolve kar di uske doosre din Letter mila.
Afsos mujhe yeh pata nahin tha ki J&K ka state ka darja khatam kar territory bana denge aur Laddakh ko alag kar denge, ek khoobsoorat soobe ko badsoorat shakal de denge.
Unhone Jo interview Diye hain  aankhen kholne wale hain.
In sab ko ghor o khoz karne par yahi awam ki aawaz hai ki Shri Satey Pal Malik ji ko Aligarh se Lok Sabha election larhaya jaye. Hindoo hon ya Musalman, Sikh hon ya Crestian, Jaat hon ya Thakur, Khair, Jattari,  Baroli, Koil ho ya Iglas, Atroli har Voter ke dil mein Shri Satey Pal Malik rehte hain.
        Mujhe ummeed hi nahin Kamil yaqeen bhi hai ki hamare National leader Akhilesh Yadav, Jayant Chowdhary aur Rahul Gandhi bhi, Hamsab milkar Satey Pal Malik ji ko jitayenge 

ALI DAY

Agha Mehdi Mehdavipur addressing the Ali Day celebrations  at Kennedy Hall 

एएमयू में अली दिवस समारोह का आयोजन

अलीगढ़ 6 फरवरीः अली सोसाइटीअलीगढ मुस्लिम विश्वविद्यालय द्वारा इस्लाम के चैथे खलीफा हजरत अली की जयंती के रूप में आयोजित वार्षिक अली दिवस समारोह कैनेडी ऑडिटोरियम में आयोजित किया गया।

अपने अध्यक्षीय भाषण मेंएएमयू के कुलपति प्रोफेसर मोहम्मद गुलरेज़ ने हज़रत अली को श्रद्धांजलि अर्पित की और सभी से हज़रत अली की शिक्षाओं को अपनाने का आग्रह कियाजिन्होंने जीवन भर ज्ञान प्राप्त करने का प्रयास किया। उन्होंने कहा कि हजरत अली को ज्ञान का प्रवेश द्वार बाब-अल-इल्म’ कहा जाता था और आज के युग में ज्ञान ही जीत की माध्यम है।

उन्होंने कहा हर मुसलमान के लिए हज़रत अली की शिक्षाओं में अटूट विश्वास बनाए रखना और इस तरह ज्ञान प्राप्त करना अनिवार्य है।

मुख्य अतिथिभारत में इस्लामी गणतंत्र ईरान के सर्वाेच्च लीडर के मुख्य प्रतिनिधिमहामहिम आगा मेहदी मेहदवीपुर ने कहा कि मानवता आंतरिक शांति की तलाश कर रही है। यदि किसी व्यक्ति का हृदय ईश्वर के प्रेम से भर जाए तो उसके सभी दुख और परेशानियां दूर हो जाएंगी। ईश्वर के साथ संबंध स्थापित करने से दर्द और परेशानियां कम हो जाती हैं।

विशिष्ट अतिथिभिनगा के मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेटन्यायाधीश शारिब अली ने कहा कि इस्लाम ज्ञान का दीपक जलाने का संदेश देता हैऔर इमाम अली ने कहा कि दुनिया का ज्ञान दूसरों के साथ ज्ञान साझा करने से आता है।

सम्मानित अतिथिलखनऊ विश्वविद्यालय के उर्दू विभाग के अध्यक्ष प्रोफेसर अब्बास रज़ा नैय्यर ने अपनी काव्यात्मक शैली में इमाम अली के महान कद पर प्रकाश डाला।

मौलाना सैयद ज़रग़ाम हैदर रिज़वी ने हज़रत अली के बौद्धिक व्यक्तित्व के विशेष संदर्भ में ज्ञान प्राप्त करने के लाभों को बताया। उन्होंने उल्लेख किया कि धनशक्ति और सम्मान हर किसी के द्वारा प्राप्त नहीं किया जा सकता हैलेकिन ज्ञान में धनशक्ति और सम्मान शामिल हैजिसे कोई भी अपनी इच्छा से प्राप्त कर सकता है।

डॉ. हफ़ीज़ उर रहमान ने कहा कि इमाम अली का जीवन सिर्फ एक विशिष्ट समुदाय या संप्रदाय के लिए एक उदाहरण नहीं हैबल्कि मानवता की भलाई के लिए काम करने वाले सभी लोगों के लिए एक मॉडल के रूप में कार्य करता है।

श्री ज़ीशान अली आज़मी ने कहा कि जब व्यक्ति अपनी जड़ों से जुड़ा रहता है तो प्रगति ही उसकी नियति बन जाती है।

श्री सैयद सलीम हैदर नकवी ने सभी से हज़रत अली के अनुकरणीय जीवन को जीवन में अपनाने और यहां और इसके बाद सफल होने का आग्रह किया।

इस अवसर पर अली डे समारोह के तहत आयोजित विभिन्न प्रतियोगिताओं के विजयी प्रतिभागियों को पुरस्कृत किया गया। निबंध लेखन प्रतियोगिता में प्रथम पुरस्कार सकीना को मिलाजबकि दूसरा और तीसरा पुरस्कार क्रमशः सिब्ते सुग़रा और रमशा फातिमा को दिया गया।

भाषण प्रतियोगिता में बसरा हसन ने प्रथम पुरस्कार जीता जबकि फ़िज़ा हुसैन और अरीशा मलिक को दूसरा और तीसरा पुरस्कार मिला।

पोस्टर मेकिंग प्रतियोगिता में पहला पुरस्कार आसिया मासूम ने जीताजबकि दूसरा पुरस्कार वारिशा खालिद और निमरा खानम ने साझा किया। तीसरा पुरस्कार भी मिदहत रईस और सैयदा अलाय ज़हरा अहसन को मिलाजबकि सिमसम अहमद को सांत्वना पुरस्कार दिया गया।

अली सोसायटी के अध्यक्ष प्रो. आबिद अली खान ने धन्यवाद ज्ञापित किया। उन्होंने कार्यक्रम के सफल आयोजन में सफी अब्बास (कार्यक्रम समन्वयक) और सैयद फैजुल हसन (कार्यक्रम संयुक्त समन्वयक) और उनके सहयोगियों की कड़ी मेहनत की सराहना की।

इस भव्य समारोह में इस अवसर पर आयोजित विभिन्न प्रतिस्पर्धी कार्यक्रमों के विजेताओं को पुरस्कार वितरित भी किया गये।

एएमयू में अली दिवस समारोह का आयोजन

अलीगढ़ 6 फरवरीः अली सोसाइटीअलीगढ मुस्लिम विश्वविद्यालय द्वारा इस्लाम के चैथे खलीफा हजरत अली की जयंती के रूप में आयोजित वार्षिक अली दिवस समारोह कैनेडी ऑडिटोरियम में आयोजित किया गया।

अपने अध्यक्षीय भाषण मेंएएमयू के कुलपति प्रोफेसर मोहम्मद गुलरेज़ ने हज़रत अली को श्रद्धांजलि अर्पित की और सभी से हज़रत अली की शिक्षाओं को अपनाने का आग्रह कियाजिन्होंने जीवन भर ज्ञान प्राप्त करने का प्रयास किया। उन्होंने कहा कि हजरत अली को ज्ञान का प्रवेश द्वार बाब-अल-इल्म’ कहा जाता था और आज के युग में ज्ञान ही जीत की माध्यम है।

उन्होंने कहा हर मुसलमान के लिए हज़रत अली की शिक्षाओं में अटूट विश्वास बनाए रखना और इस तरह ज्ञान प्राप्त करना अनिवार्य है।

मुख्य अतिथिभारत में इस्लामी गणतंत्र ईरान के सर्वाेच्च लीडर के मुख्य प्रतिनिधिमहामहिम आगा मेहदी मेहदवीपुर ने कहा कि मानवता आंतरिक शांति की तलाश कर रही है। यदि किसी व्यक्ति का हृदय ईश्वर के प्रेम से भर जाए तो उसके सभी दुख और परेशानियां दूर हो जाएंगी। ईश्वर के साथ संबंध स्थापित करने से दर्द और परेशानियां कम हो जाती हैं।

विशिष्ट अतिथिभिनगा के मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेटन्यायाधीश शारिब अली ने कहा कि इस्लाम ज्ञान का दीपक जलाने का संदेश देता हैऔर इमाम अली ने कहा कि दुनिया का ज्ञान दूसरों के साथ ज्ञान साझा करने से आता है।

सम्मानित अतिथिलखनऊ विश्वविद्यालय के उर्दू विभाग के अध्यक्ष प्रोफेसर अब्बास रज़ा नैय्यर ने अपनी काव्यात्मक शैली में इमाम अली के महान कद पर प्रकाश डाला।

मौलाना सैयद ज़रग़ाम हैदर रिज़वी ने हज़रत अली के बौद्धिक व्यक्तित्व के विशेष संदर्भ में ज्ञान प्राप्त करने के लाभों को बताया। उन्होंने उल्लेख किया कि धनशक्ति और सम्मान हर किसी के द्वारा प्राप्त नहीं किया जा सकता हैलेकिन ज्ञान में धनशक्ति और सम्मान शामिल हैजिसे कोई भी अपनी इच्छा से प्राप्त कर सकता है।

डॉ. हफ़ीज़ उर रहमान ने कहा कि इमाम अली का जीवन सिर्फ एक विशिष्ट समुदाय या संप्रदाय के लिए एक उदाहरण नहीं हैबल्कि मानवता की भलाई के लिए काम करने वाले सभी लोगों के लिए एक मॉडल के रूप में कार्य करता है।

श्री ज़ीशान अली आज़मी ने कहा कि जब व्यक्ति अपनी जड़ों से जुड़ा रहता है तो प्रगति ही उसकी नियति बन जाती है।

श्री सैयद सलीम हैदर नकवी ने सभी से हज़रत अली के अनुकरणीय जीवन को जीवन में अपनाने और यहां और इसके बाद सफल होने का आग्रह किया।

इस अवसर पर अली डे समारोह के तहत आयोजित विभिन्न प्रतियोगिताओं के विजयी प्रतिभागियों को पुरस्कृत किया गया। निबंध लेखन प्रतियोगिता में प्रथम पुरस्कार सकीना को मिलाजबकि दूसरा और तीसरा पुरस्कार क्रमशः सिब्ते सुग़रा और रमशा फातिमा को दिया गया।

भाषण प्रतियोगिता में बसरा हसन ने प्रथम पुरस्कार जीता जबकि फ़िज़ा हुसैन और अरीशा मलिक को दूसरा और तीसरा पुरस्कार मिला।

पोस्टर मेकिंग प्रतियोगिता में पहला पुरस्कार आसिया मासूम ने जीताजबकि दूसरा पुरस्कार वारिशा खालिद और निमरा खानम ने साझा किया। तीसरा पुरस्कार भी मिदहत रईस और सैयदा अलाय ज़हरा अहसन को मिलाजबकि सिमसम अहमद को सांत्वना पुरस्कार दिया गया।

अली सोसायटी के अध्यक्ष प्रो. आबिद अली खान ने धन्यवाद ज्ञापित किया। उन्होंने कार्यक्रम के सफल आयोजन में सफी अब्बास (कार्यक्रम समन्वयक) और सैयद फैजुल हसन (कार्यक्रम संयुक्त समन्वयक) और उनके सहयोगियों की कड़ी मेहनत की सराहना की।

इस भव्य समारोह में इस अवसर पर आयोजित विभिन्न प्रतिस्पर्धी कार्यक्रमों के विजेताओं को पुरस्कार वितरित भी किया गये।a Mehdi Mehdavipur addressing the Ali Day celebrations  at Kennedy Hall 

Popular Posts