Friday, May 20, 2022

Tazeen Fatima and Umar Abdullah ne Suprim Court ka Shukriya ada kiya aur Salute kiya

 

Mrs. Tazeen Fatima, sabiq Rajey Sabha M.P. aur MLA, Rampur 

Lkj lS;n vgen [k+ka us ,,e;w ds d+k;e djus ij tSlh eqlhcrsa >syh Fkha mlh rjg vkt+e us 27 eghus tSy dh eqlhcrsa >Syh%&tSy esa tkus ls igys mUgksa us ;gh nnZHkjh] HkjkZ;h vkokt+ esa dgk Fkk fd esjs cPpksa ¼tkSgj ;wuhoflZVh½ dh fdrkcsa Nhuyh x;haa] mUgsa i<++us ugha fn;k tk jgk gS] mudh ft+Unxh ¼rkyheh lQ+j½ cjckn dj jgs gSaA ysfdu eSa M#axk ugha] >qdqaxk ughaA tkSgj ;wuhoflZVh rkyhe dh jks”kuh fc[kSjrh jgsxhA

Ekq> ij blfy;sa eqd+nes Fkksis tk jgs gSa fd eSa jkeiqj ds x+jhc] et+nwjksa] fjD”kk okyksa] f”k{kk ls oafpr fgUnw eqfLye reke] fl[k vkSj bZlkbZ gj lekt ds x+jhc cPpksa dks i<+k jgk gwaA oksg yksx mu yksxksa dk lkFk ns jgs gSa tks ;rhe[k+kus] tjtj iqjkuh Ldwy dh fcfYMax dks ?ksjs iM+s FksA vxj ogka mUgha ds x+jhcksa ds cPpksa dks vixzsM dj csgrjhu rkyhe nsuk “kq# dj fn;k x;k gS rks D;k ijs”kkuh gSA

D;k eSa mu fdrkcksa] ;rhe[k+kus] enjls dh t+ehuksa dks ywV dj vius ?kj ys x;k Fkk\ eSa us rks mudks vPNs rjhd+s ls ltkdj laokj dj cPkksa dh rkyhe ds fy;s vixzsM fd;k FkkA rkfd ,d vPNk [k+wclwjr rkyhe dks ekgkSy cu ldsA

eSa us rks m0iz0 ljdkj esa jgdj “kSf{kd ;kstukvksa dks veyh “kdy nsdj x+jhcksa dks rkyhe nsdj mUgsa muds fodkl dh eq[;/kkjk ls tksM+uk pkgk gSA eSa us ljdkj esa jgdj m0iz0 ds fodkl dk gh dke fd;k gS rkfd ;wih Hkh dsjy vkSj gSnjkckn dh rjg f”k{kk ds {ks= esa rjD+d+h djs vkSj ;wih fgUnqLrku dk mRre izns”k cu tk;sA blh fy;s turk gesa oksV nsdj fo/kku lHkk vkSj laln Hkstrh gSA  

vkt+e [k+ku ds csVs vkSj ilZuy lfpo ’kkuw us i=dkjksa ls nj[+okLr djrs gq, dgk fd vkt ge dksbZ ckr ugha djsaxsA gekjs fy;s vkt [k+ku lkgc dh fjgkbZ gekjs fy;s bZn dk fnu gS gesa bZn dh [k+qf”k;ksa eukus nksA mUgsa

rat+hu Q+kfrek] csVksa us dgk fd ge lqfize dksVZ ds Q+Slys dk bLrd+cky djrs gSa vkSj lqfize dksVZ vkSj vkt+e lkgc ds pkgus okyksa Lkj lS;n vgen [k+ka us tSlh eqlhcrksa >syha mlh rjg vkt+e us 27 eghus tSy dh eqlhcrsa >Syh%&tSy esa tkus ls igys mUgksa us ;gh nnZHkjh HkjkZ;h vkokt+ esa dgk Fkk fd esjs cPpksa ¼tkSgj ;wuhoflZVh½ dh fdrkcsa Nhuyha] i<++us ugha ns jgs] mudh ft+Unxh ¼rkyheh lQ+j½ cjckn dj jgs gSaA ysfdu eSa M#axk ugha] >qdqaxk ughaA tkSgj ;wuhoflZVh rkyhe dh jks”kuh fc[kSjrh jgsxhA

vkt+e [k+ku ds csVs vkSj ilZuy lfpo ’kkuw us i=dkjksa ls nj[+okLr djrs gq, dgk fd vkt ge dksbZ ckr ugha djsaxsA gekjs fy;s vkt [k+ku lkgc dh fjgkbZ gekjs fy;s bZn dk fnu gS gesa bZn dh [k+qf”k;ksa eukus nksA

rat+hu Q+kfrek] csVksa us dgk fd ge lqfize dksVZ ds Q+Slys dk bLrd+cky djrs gSa vkSj lqfize dksVZ vkSj vkt+e lkgc ds pkgus okyksa dk “kqfdz;k vnka djrs gSaA

lhrkiqj ds ,lMh,e vkSj ,l,lih us i=dkjksa dks crk;k fd vkt+e lkgc ds leFkZdksa us cgqr lg;ksax fd;k gS vkSj ge lhrkiqj ls “kkgtgkaiqj dh iqfyl ,LdksVZ dks lkSai dj fonk djsaxsA ge i=dkjksa ls fourh djsaxs fd oksg vkt+e lkgc ls ckr u djsaA

lhrkiqj ds ,lMh,e vkSj ,l,lih us i=dkjksa dks crk;k fd vkt+e lkgc ds leFkZdksa us cgqr lg;ksax fd;k gS vkSj ge lhrkiqj ls “kkgtgkaiqj dh iqfyl ,LdksVZ dks lkSai dj fonk djsaxsA ge i=dkjksa ls fourh djsaxs fd oksg vkt+e lkgc ls ckr u djsa

tks i=dkj pV[k+kjs ysdj lik v/;{k vf[kys’k ;kno vkSj vkt+e [k+ka dks yM+kuk pkg jgs Fks mUgsa ml oD+r cM+k >Vdk yxk tc vf[kys’k ;kno us vius VOkhVj gSaMy ij vkt+e [k+ka dh fjgkbZ ij izlUurk O;Dr dj mudh fjgkbZ dk bLrd+cky fd;kA  


AZAM KHAN ZINDABAD, jAUHAR UNIVERSITY ZINDABAD, SUPRIM COURT ZINDABAD

 


vyhx<+ eqfLye ;wuhoflZVh dk liwr vkSj baVjus’kuy yhMj] tsy ls ckgj vkus ij vkt+e [k+ku dk gt+kjksa yksxksa us bLrd+cky fd;k

 lj lS;n lkuh vkt+e us tkSgj ;wuhoflZVh ds fy;s lt+k Hkqxrh& Mk0 elwn vgen]
laiknd lykesoru

fo|k;dx.k f”koiky] vk”kw efyd] mej vCnqYykg] vfuy dqekj oekZ] vuwi xqIrk] lhrkiqj ds lik ft+yk v/;{k vkSj gt+kjksa usrkvksa vkSj pkgus okyksa us mudk iqqrZikd bLrd+cky fd;kA

14 ft+yksa dh iqfyl] lhvks] ,lMh,e us cM+h iqfyl Q+kslZ us d+kuwu O;oLFkk laHkkyh vkSj 500 ls T+;knk xkfM+;ksa ds lhrkiqj esa ,UVªh djus ds ckn lhrkiqj dh ljgnksa ij xkfM+;ksa ds vkus ij ikacnh yxknh rc tkdj O;oLFkk d+k;e dh x;ha Ekxj yksx nwj nwj ls iSny py dj gh tSy igqp jgs gSaA  vkt+e [k+ka ds leFkdksaZ us Hkh lg;ksx fd;kA gkykafd iz”kklu us vkt+e [k+ku ls ckr ugha djus nhA



Wednesday, May 11, 2022

ALIGARH MUSLIM UNIVERSITY gets A+Rank in NAAC revised review

 

Aligarh Muslim University (AMU) has further strengthened its place in the premier institutions of the Country as it got the ‘A+’ rank by the National Assessment and Accreditation Council (NAAC) in its revised review assessment released today.

Earlier the NAAC placed AMU in ‘A’ Rank and the Vice Chancellor, Prof Tariq Mansoor constituted a committee comprising senior faculty members headed by Prof Parvez Mustajab (Dean, Faculty of Engineering) to prepare the representation for the revision.

After the representation made by the Vice Chancellor at NAAC committee, it revised the assessment and placed AMU in ‘A+’ rank—which will remain valid for a period of five years from May 10, 2022.

“A high NAAC ranking indicates the soundness of AMU’s governance and academic delivery, among several other critical parameters. We are always enlarging our operations across functions to give better outcomes”, said AMU Vice Chancellor, Prof Tariq Mansoor.

Extending congratulations to the faculty members, students, non-teaching staff members and alumni; the Vice Chancellor said that AMU’s place among the Country’s leading universities and educational institutions reflects the sheer hard work of our teachers and relevant and focused research carried out at the university.

“AMU is a strong institute with capable faculty fostering educational ideas and thoughts inside a student that are necessary in changing times. Our contribution to national development is also increasing in leaps and bounds”, he added while thanking the university teachers for the contribution.

Prof Mansoor pointed out: “I am sure our faculty and students will restore this grade and improve further in the future. The grading provided by the council is crucial for allotment of funds and grants by the University Grants Commission (UGC)”.

Prof Tariq Mansoor thanked the faculty, non-teaching staff, students and alumni for extending full cooperation to the university administration. 

The A+ Grade is based on criterion-wise different weightages such as curricular aspects, teaching-learning and evaluation, research, innovations and extension, infrastructure and learning resources, student support and progression, governance, leadership and management and institutional values and best practices.  

 नेक की संशोधित समीक्षा में एएमयू को मिला ए प्लस रैंक

अलीगढ़, 10 मईः अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय ने आज राष्ट्रीय मूल्यांकन और प्रत्यायन परिषद (एनएएसी) द्वारा जारी अपने संशोधित समीक्षा मूल्यांकन में ए प्लस’ रैंक प्राप्त करते हुए देश के प्रमुख संस्थानों में अपनी जगह को और मजबूत कर लिया है।

इससे पूर्व नैक ने एएमयू को  रैंक वर्ग में रखा था और कुलपति ने रैंकिंग में संशोधन के लिए प्रार्थना पत्र तैयार करने के लिए प्रोफेसर परवेज मुस्तजाब (डीन, इंजीनियरिंग संकाय) की अध्यक्षता में वरिष्ठ शिक्षकों की एक समिति का गठन किया था। अब, नैक ने अमुवि के मूल्यांकन में संशोधन कर एएमयू को ए प्लस रैंक दिया है जो 10 मई 2022 से पांच साल की अवधि के लिए वैध होगा।

एएमयू कुलपतिप्रोफेसर तारिक मंसूर ने मूल्याकन में संशोधन पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि उच्च नैक रैंकिंग कई अन्य महत्वपूर्ण मापदंडों में एएमयू की व्यवस्था एवं प्रशासनिक सुदृढ़ता और शैक्षणिक गतिशीलता आदि को इंगित करती है। हम छात्रों और शिक्षकों को बेहतर परिणाम देने के लिए लगातार अपने कार्यों में विस्तार कर रहे हैं।

शिक्षकों को बधाई देते हुए कुलपति ने कहा कि देश के अग्रणी विश्वविद्यालयों और शैक्षणिक संस्थानों में एएमयू का स्थान हमारे शिक्षकों की कड़ी मेहनत और विश्वविद्यालय में किए गए प्रासंगिक और केंद्रित शोध को दर्शाता है।

विश्वविद्यालय के शिक्षकों को उनके योगदान के लिए धन्यवाद देते हुए प्रोफेसर मंसूर ने कहा कि एएमयू एक मजबूत संस्थान है जिसमें सक्षम शिक्षकों एवं छात्रों के अंदर नवीनतम शैक्षिक विचारों और नवाचार को बढ़ावा दिया जाता है जो बदलते समय के अनुरूप है। राष्ट्रीय विकास में हमारा योगदान भी इसी अनुपात में तेजी से बढ़ रहा है।

प्रोफेसर मंसूर ने कहा कि मुझे यकीन है कि हमारे शिक्षक एवं छात्र इस ग्रेड को बरक़रार रखेंगे और भविष्य में इसमें और सुधार करेंगे। उन्होंने कहा कि नैक द्वारा प्रदान की गई ग्रेडिंग विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) द्वारा धन और अनुदान के आवंटन के लिए महत्वपूर्ण है।

ए प्लस ग्रेड पाठ्यक्रम के विभिन्न पहलुओंशिक्षण और मूल्यांकनअनुसंधाननवाचार और विस्तारबुनियादी ढांचे और सीखने के संसाधनोंछात्र सपोर्ट और प्रगतिप्रशासननेतृत्व और प्रबंधन और संस्थागत मूल्यों और विभिन्न मानदंडों पर आधारित है।

Friday, April 29, 2022

District Judge and President of Vidhik Sewa Pradhikaran is distributing the clothe to Qaidi in Distt. Aligarh Jail Sponcered by Insaniyat Foundation, Aligarh

 

District Judge Janab Dr. Babboo Sarang (President of Vidhik Sewa Pradhikaran, Aligarh), Jb P.K.Singh Jailor and other  is distributing the clothe to Qaidi in Distt. Aligarh Jail SWponcered by Insaniyat Foundation, Aligarh

مد اللہ آج انسانیت فاؤنڈیشن کا علیگڑھ جیل پروگرام کامیابی کی نئی عبارت لکھ کر لوگوں کے دلوں کو چھو گیا. ڈسٹرکٹ جج

 جناب ڈاکٹر ببو سارنگ صاحب کی صدارت ایڈیشنل جج صاحبان کی حوصلہ افزائی جیلر صاحب جناب پی کے سنگھ صاحب اور ڈپٹی جیلر صاحبان نے جس عقیدت سے انسانیت فاؤنڈیشن کے تحائف کو نہ صرف قبول کیا بلکہ اپنے مبارک ہاتھوں سے قیدیوں میں تقسیم کیا. اور سب قطعی ممکن نہ تھا آپ سب کے تعاون کے بغیر. اللہ تعالیٰ اُن تمام حضرات کو تمام عزتوں سے نوازے جنھوں نے اپنا ہر طریقے سے تعاون پیش کیا اور انسانیت فاؤنڈیشن کے ہر مشن میں شانہ بشانہ ساتھ کھڑے رہے. اس کی *کامیابی کا پورا سہرا جناب محمد ندیم انجم صاحب اور جناب محمد صالحین صاحب کے سر* ہے لیکن جناب الیاس حسین صاحب (سرپرست انسانیت فاؤنڈیشن)، جناب ربانی صاح

ب، جناب ڈاکٹر ہاشم صاحب (ٹریذرر انسانیت فاؤنڈیشن) جناب شمس الرحمن صاحب (صدر ایم فاؤنڈیشن)، جناب ڈاکٹر ثروت سلطان صاحب کی محنتوں نے اس پروگرام میں صرف چارچاند ہی نہیں لگائے بلکہ تمام خوبصورت جذبات کو جگایا ہے اور ثابت کیا ہے انسانیت محبت کی بھوک سے کس قدر تڑپ رہی ہے . آپ ذرا غریب کی طرف مسکرا کر تو دیکھیں صاحبِ خیر آپ سے کتنے خوش ہوکر گلے ملینگے. اللہ آپ سب کو جزائے خیر عطا فرمائے آمین ثم آمین. دور رہتے ہوئے بھی ہماری فاؤنڈیشن کے صدر جناب ڈاکٹر اسجد حسین صاحب کی خدمات اور ہدایات ہمیشہ انسانیت کی بنیاد کو مضبوط کرنے میں مددگار ہوتی ہیں. جزاک اللہ خیرا.

......................................... 

 *نہ جانے کون سے لمحے میں ہم مٹی میں مل جائیں.... چلو کچھ کام کر جائیں کسی کے کام آجائیں





Sunday, March 27, 2022

CME in Deptt. of Health and Hygiene, AKTC, AMU Aligarh

 

तहफ़ुज़ी वा समाजी तिब शिक्षकों के लिए एएमयू के अजमल खां तिब्बिया कालिज में सीएमई 

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के यूनानी चिकित्सा संकाय अजमल खां तिब्बिया कालिज के तहफ़ुज़ी वा समाजी तिब विभाग के तत्वाधान में शिक्षकों के लिये छः दिवसीय सतत चिकित्सा शिक्षा (सीएमई) कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसका उद्देश्य शिक्षकों को यूनानी चिकित्सा प्रणाली के अन्तर्गत प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल दृष्टिकोण के माध्यम से सामुदायिक चिकित्सा से सम्बन्धित जानकारी प्रदान करना है।

आयुष मंत्रालय द्वारा प्रायोजित सीएमई के उद्घाटन समारोह में मुख्य अतिथिडॉ मुख्तार अहमद कासमी (सलाहकारयूनानीआयुष मंत्रालय) ने कहा कि सीएमई कार्यक्रम मेडीकल फैकल्टी और निजी चिकित्सकों को उनके ज्ञानकौशल को बनाए रखने और बढ़ाने में मदद करते हैं।

उन्होंने कहा कि मुझे यकीन है कि यह कार्यक्रम चिकित्सकों को शैक्षणिक रूप से नवीनआधिकारिक और अत्याधुनिक शिक्षा प्रदान करेगा।

डॉ मुख्तार ने दुनिया भर में यूनानी उपचारों की बढ़ती लोकप्रियता पर भी बात की।

अध्यक्षीय भाषण मेंएएमयू के कार्यवाहक कुलपतिप्रोफेसर परवेज मुस्तजाब ने कहा कि तहफ्फुजी समाजी तिब विभाग के डॉक्टर सक्रिय रूप से जिला स्वास्थ्य प्रशासन के साथ काम कर रहे हैं ताकि लोगों की स्वास्थ्य आवश्यकताओं और उनके स्वास्थ्य की स्थिति को उचित रूप से विकसित करने के लिए उनका विश्लेषण और मापन किया जा सके और रोगों को रोकने और नियंत्रित करने के लिए व्यावहारिक रूप से व्यवहार्य रणनीतियाँ बनाई जा सके।

मानद् अतिथिडॉ रघुराम भट्टा यू (सचिव प्रभारी और अध्यक्षएमएआरबीआईएसएमएनसीआईएसएमआयुष मंत्रालय) और डॉ राकेश शर्मा (अध्यक्षबीईआरआईएसएमआयुष मंत्रालय) ने जोर दिया कि यूनानी चिकित्सा प्राकृतिक उपचार का उपयोग करती है तथा इसे कई देशों में लोकप्रियता प्राप्त हो रही है और दुनिया भर में लोग जीवन-शैली विकार उपचार के लिए चिकित्सा की इस वैकल्पिक प्रणाली की ओर देख रहे हैं।

उन्होंने आगे कहा कि जीवन शैली संबंधी विकार दिन--दिन बढ़ रहे हैं और इन विकारों की रोकथाम और प्रबंधन के नए आयामों का पता लगाना समय की आवश्यकता है

यूनानी चिकित्सा संकाय के डीन प्रोफेसर एफ एस शीरानी ने कहा कि सीएमई कार्यक्रमों में प्राप्त ज्ञान चिकित्सा क्षेत्र के बदलते परिदृश्य में स्वास्थ्य देखभाल की गुणवत्ता में सुधार करने के लिए शिक्षकों और डॉक्टरों की मदद करता है।

प्रोफेसर शगुफ्ता अलीम (प्रिंसिपलएकेटीसी) ने कहा कि तहफ्फ़ुज़ी समाजी तिब स्वास्थ्य को बढ़ावा देनेजीवन का विस्तार करने और विभिन्न बीमारियों को रोकने की क्षमता के साथ साक्ष्य आधारित अंतर्विरोधों का समाधान प्रदान करता है।

तहफ़ुज़ी वा समाजी तिब विभाग की अध्यक्ष प्रोफेसर रूबी अंजुम ने स्वागत भाषण दिया और विभाग की उपलब्धियों पर बात की। उन्होंने कहा कि विभाग में अन्य महत्वपूर्ण शैक्षणिक उपलब्धियों के अलावा स्नातकोत्तर सीटों में भी वृद्धि हुई है।

सीएमई संयोजक डॉ अब्दुल अजीज खान ने कार्यक्रम का संचालन किया और सीएमई के आयोजन सचिव डॉ अम्मार इब्ने अनवर ने धन्यवाद प्रस्ताव दिया।

सीएमई में महाराष्ट्रकर्नाटकपंजाबबिहारमध्य प्रदेशउत्तराखंडउत्तर प्रदेश

और पश्चिम बंगाल जैसे विभिन्न राज्यों के यूनानी चिकित्सक और शिक्षक भाग

ले रहे हैं


Popular Posts